Thursday, July 30, 2020
Home भारत बिना भक्तों के 2500 साल में पहली बार घर से बाहर निकलेंगे...

बिना भक्तों के 2500 साल में पहली बार घर से बाहर निकलेंगे भगवान

सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश के अनुसार होगी पुरी रथ यात्रा !

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से पुरी में रथ यात्रा की तैयारी शुरू हो गई है। जहां एक तरफ लोगो ख़ुशी है की भगवान अपने भक्तो को दर्शन देने के बाहर निकलेंगे तो वहीं भक्त उनके दर्शन डिजिटली ही कर पाएंगे।

रथ यात्रा के लिए सुप्रीम कोर्ट के द्वारा दिए गए दिशा निर्देश

पुरी शहर में सभी प्रवेश बिंदु, अर्थात्, हवाई अड्डे, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, आदि, रथ यात्रा उत्सव की अवधि के दौरान बंद रहेंगे।

राज्य सरकार पुरी शहर में सभी दिनों में और रथयात्रा रथों को जुलूस में ले जाने के दौरान कर्फ्यू लगाएगी।

राज्य सरकार ऐसे अन्य दिनों में पुरी शहर में कर्फ्यू लगा सकती है जिस समय के दौरान आवश्यक समझा जा सकता है।

कर्फ्यू की अवधि के दौरान किसी को भी उनके घरों या उनके निवास स्थानों या होटल से बाहर आने की अनुमति नहीं दी जाएगी,

ये कर्फ्यू आज रात 8 बजे से शुरू होगा।

प्रत्येक रथ 500 से अधिक व्यक्तियों द्वारा नहीं खींचा जाएगा।

उन 500 व्यक्तियों में से प्रत्येक का परीक्षण कोरोनावायरस के लिए किया जाएगा। यदि उन्हें नेगेटिव पाया गया है तो उन्हें केवल रथ खींचने की अनुमति दी जाएगी।

500 की संख्या में अधिकारी और पुलिस कर्मी भी शामिल होंगे।

दो रथों के बीच एक घंटे का अंतराल होगा।

रथ खींचने में लगे लोगों में से प्रत्येक रथ यात्रा के दौरान, उसके पहले और बाद में सामाजिक दूरी बनाए रखेगा।

कुछ रस्में रथ यात्रा से जुड़ी हैं। केवल ऐसे व्यक्ति अनुष्ठानों से जुड़े होंगे जिन्हें नेगेटिव परीक्षण किया गया है और वे सामाजिक दूरी बनाए रखेंगे।

शर्तों और अन्य मानदंडों के अनुसार रथ यात्रा के संचालन की प्राथमिक जिम्मेदारी पुरी जगन्नाथ मंदिर प्रशासन समिति के प्रभारी की होगी।

समिति का प्रत्येक सदस्य इस न्यायालय द्वारा लगाई गई शर्तों और केंद्र सरकार द्वारा जारी सार्वजनिक स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने वाले सामान्य निर्देशों के अनुपालन के लिए जिम्मेदार होगा।

इसके अलावा, रथ यात्रा के संचालन के लिए राज्य सरकार द्वारा नामित अधिकारी भी इसी तरह जिम्मेदार होंगे।

अनुष्ठान और रथ यात्रा को स्वतंत्र रूप से मीडिया द्वारा कवर किया जाएगा।

राज्य सरकार टीवी कैमरों को ऐसे स्थानों पर स्थापित करने की अनुमति देगी जो टीवी दल द्वारा आवश्यक पाए जा सकते हैं।

अनुष्ठान और रथ यात्रा में भाग लेने के लिए समिति द्वारालोगों की न्यूनतम संख्या की अनुमति होगी

उड़ीसा राज्य का जीवन के बहुत कम नुकसान के साथ महामारी को नियंत्रित करने का अच्छा रिकॉर्ड है। हम देखते हैं कि रथ यात्रा पर ध्यान और सावधानी का एक जैसा रवैया लागू नहीं होना चाहिए।

राज्य सरकार ऐसी मदद ले सकती है जो केंद्र सरकार से आवश्यक हो।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायालय को आश्वासन दिया है कि केंद्र सरकार इस प्रयास में राज्य सरकार को सभी सहायता और सहायता प्रदान करेगी।

राज्य सरकार उन सभी लोगों का रिकॉर्ड बनाए रखेगी, जिन्हें रथ यात्रा में भाग लेने की अनुमति दी गई है और अनुष्ठान में भाग लेने वालों का मेडिकल रिकॉर्ड भी रखा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नहीं रहे हिन्दू ह्रदय सम्राटों में से एक : मा० चिन्तामाणि !

गोरखपुर : मा० चिन्तामाणि अतयन्त कर्मठ और सच्चे समाज सेवक थे,उन्होने हिन्दू धर्म सभा विष्णु मंदिर के अध्यक्ष तथा मत्री पद को...

किसानों के लिए अवसर में तब्दील हुआ कोरोना काल: कैलाश चैधरी

कोरोना काल पूरी दुनिया के लिए संकट का काल है, लेकिन देश में कृषि क्षेत्र की उन्नति और किसानों की समृद्धि के...

उल्कापिंड को अनुसंधान के लिए भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण को सुपुर्द किया

जालोर(राजस्थान) : जालोर जिले के सांचौर क्षेत्र में गायत्री महाविद्यालय के पास आसमान से गिरे उल्कापिंड को अनुसंधान के लिए भारतीय भू-वैज्ञानिक...

16 साल की TikTok स्‍टार सिया कक्‍कड़ ने की खुदकुशी

दिल्ली : गीता कॉलोनी के 13 ब्लॉक में 16 साल की TikTok स्‍टार सिया कक्‍कड़ ने की खुदकुशी एंटरटेनमेंट...

Recent Comments

%d bloggers like this: